Thursday, October 6, 2022
Homeउत्तराखंडउत्तराखंड :कहां गए 50000 श्रमिक

उत्तराखंड :कहां गए 50000 श्रमिक

उत्तराखण्ड श्रम विभाग को नहीं मिल रहें हैं 50 हजार श्रमिक?  50 हजार श्रमिकों के खाते में नहीं गई सीएम की एक-एक हजार की त्वरित राहत

कोटद्वार। उत्तराखण्ड श्रम विभाग द्वारा मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार कोरोना वायरस कोविड-19 की विश्वव्यापी महामारी के बचाव को प्रधानमंत्री द्वारा लगाये गये देशव्यापी लॉकडाउन से निपटने के लिये लगभग एक महीना बीत जाने के बाद भी अभी तक प्रदेश के 50 हजार से अधिक श्रमिकों के खाते में राहत राशि नहीं डाली जा सकी है। उत्तराखण्ड श्रम विभाग को अपने भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकृत 235897 श्रमिकों में से 51292 श्रमिक अभी तक नहीं मिल पाये हैं। जिससे लगभग एक महीना गुजरने के बाद भी उनके खाते में एक-एक हजार रूपये की धनराशि अभी तक सीधे ट्रांसफर नहीं हो पायी है। इसके लिये श्रम विभाग ने बाकायदा समाचार पत्र में विज्ञापन जारी कर इन श्रमिकों से उनका श्रम कार्ड, बैंक एकाउन्ट आइएफएस कोड़ भी मांगा है।

भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड उत्तराखण्ड की सचिव दमयन्ती रावत द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया कि प्रदेश के इस बोर्ड में 235897 श्रमिकों को त्वरित राहत के लिये एक-एक हजार रूपये की मदद उनके खाते में सीधे ट्रांसफर किये जाने थे, लेकिन 18 अप्रैल तक केवल 184605 श्रमिकों के खाते में ही यह धनराशि ट्रांसफर की जा सकी है। शेष 51292 श्रमिकों के खाते में अभी तक 1000-1000 रूपये की राशि ट्रांसफर नहीं की जा सकी हैं। जबकि श्रम मंत्री के गृह जनपद पौड़ी गढ़वाल में में 28815 श्रमिक विभाग में पंजीकृत है।।                                    श्रम मंत्री के गृह जनपद में भी नहीं हो रहा मुस्तैदी से काम   प्रदेश के थम मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत के गृह जनपद में भी मुश्तैदी से काम नहीं हो रहा है। पौड़ी जनपद में 28815 श्रमिक विभाग में पंजीकृत है। जबकि 19924 श्रमिकों के खाते में ही अभी तक 1000-1000 हजार रूपये की धनराशि डाली गई है। जब प्रदेश के श्रम मंंत्री के गृह जनपद में ही इतनी सुस्त रफ्तार से श्रमिकों के खाते में पैसे ट्रास्फर किये जा रहे है तो प्रदेश के अन्य जनपदों की स्थिति की अंदाजा लगाया जा सकता है।।                           पहला सवाल:क्या मुख्यमंत्री की घोषणा को हल्के में ले रहा बोर्ड   कोरोना वायरस कोविड-19 की विश्वव्यापी महामारी के बचाव को प्रधानमंत्री द्वारा लगाये गये देशव्यापी लॉकडाउन से निपटने के लिये मजदूर वर्ग को राहत के रूप में 1000-1000 रूपये सीधे उनके खाते में ट्राँसफर किये जाने की घोषणा प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा की गई थी। किन्तु लगभग एक महीना बीतने को है कि उत्तराखण्ड श्रम विभाग का भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड अभी तक अपने सभी 235897 श्रमिकों के खाते में राहत राशि डालने में असफल रहा है।  जिससे साफ लगता है कि उत्तराखण्ड श्रम विभाग का भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड मुख्यमंत्री के आदेश को गम्भीरता से नहीं ले रहा है।                        दूसरा सवाल:51292 श्रमिकों का रिकार्ड कहां गया उत्तराखण्ड श्रम विभाग का भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकृत 235897 में से 51292 श्रमिकों के खाते का विवरण क्यों नहीं मिल रहा। हां बोर्ड की विज्ञप्ति के अनुसार जिन श्रमिकों के खाते का विवरण बोर्ड के पास था उन 184605 श्रमिकों के खाते में कछुआ चाल से 1000-1000 रूपये ट्रांसफर हो गये है। अब श्रम विभाग द्वारा उपश्रमायुक्त कोटद्वार के नाम से बाकायदा एक अखबार में विज्ञप्ति जारी कर कहा गया है कि श्रम विभाग में भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार जो श्रमिक पंजीकृत हैं और जिन्हें 1000-1000 रूपये की राहत राशि नहीं मिली है वह अपने श्रम कार्ड की आगे पीछे की, बैंक एकाउन्ट आइएफएस कोड़ सहित की प्रति को ह्वाट्सअप नम्बर 8218166978 पर भेज दें। जिसका सीधा-सीधा मतलब है कि विभाग के पास बाकी लोगों का रिकार्ड गायब हो गया है या है ही नहीं।।                                                     तीसरा सवाल:बड़े घोटाले की ओर इशारा दिख रहा है कोरोना वायरस कोविड-19 की विश्वव्यापी महामारी के बचाव को प्रधानमंत्री द्वारा लगाये गये देशव्यापी लॉकडाउन से निपटने के लिये जहां अन्य विभागों ने राहत के रूप में जरूरतमंदों को तत्काल राहत राशि पहुंचा दी है और तो और केन्द्र सरकार ने जनधन के करोड़ों खातों में धनराशि ट्रांसफर कर दी है वहीं जनता के खून पसीने की कमाई के भवन निर्माण के समय लेवर सेस के रूप में जमा करोड़ों की धनराशि जमा होने के वाबजूद उत्तराखण्ड का भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड मुख्यमंत्री की घोषणा के बावजूद एक माह में भी मजदूर वर्ग को त्वरित राहत के रूप में 1000-1000 रूपये सीधे सभी श्रमिकों के खाते में ट्राँसफर नहीं कर पाना मुख्यमंत्री को हल्के में लेने की नीयत लग रही है और अगर यह नहीं है तो बोर्ड पंजीकृत 235897 श्रमिकों में से लगभग 50 हजार श्रमिकों को ढूंढ़ रहा है। जो कि साफ इस ओर इशारा कर रहा है कि यहां श्रमिकों के पंजीकरण में बहुत बड़ा फर्जीवाड़ा हो रखा है।

यदि बोर्ड में श्रमिकों के पंजीकरण में फर्जीवाडा है तो अब तक उनको दी जानी वाली सुविधाओं के रूप में भी अब तक करोड़ों का वारान्यारा किया गया होगा। जिसकी उच्चस्तरीय जांच कर खुलासा किया जा सकता है।

53 COMMENTS

  1. You reɑlly make itt appearr ѕo easy alօng wkth your presentation bᥙt I to
    find this topic tto be actually somethin tһat I belіeve I’ԁ never understand.
    It sort of feels tߋо complicated and extremely hսɡe foг me.
    I’m lоoking ahead fоr your subsequent post, Ӏ wіll try tо get tһe dangle of it!

    Feel free tօ visit my web site: 在線免費選擇這個

  2. Hellо I am sⲟ happy I found your blog, І reaⅼly fοund yoս Ƅy error,
    ԝhile I was seaching on Aol foг sometһing eⅼse, Nonethеⅼess I am
    һere now аnd would just liқe to say cheers f᧐r a tremendous
    post andd a aⅼl round enjoyable blog (I also
    love tthe theme/design), Ӏ don’t hɑvе time tо ⅼook over it all at the minutе but I have saved it аnd alsο included yoᥙr RSS feeds, so wwhen I have time I wilⅼ be back to read a gгeat deal morе, Please do
    keep uр the awesome wߋrk.

    Alsߋ visit my site; ਇਸ ਮੁਫਤ ਸਮੱਗਰੀ ਨੂੰ ਔਨਲਾਈਨ ਲੱਭੋ

  3. Ні thегe І am so glad I found yoyr web site, I really found yοu bʏ mistake,
    while I wwas researching on Yahoo for something else, Anyways Ι am heгe now and would just like to ѕay mаny thanks fоr a fantastic post аnd
    ɑ ɑll rοund ejoyable blog (І also love the theme/design), I don’t
    have time to go thrоugh it all at tthe mοment but I have book-marked it ɑnd also included your RSS feeds, so when I have tіme І wіll Ьe baϲk tοo reаɗ much
    mⲟre, Plеase do keep up the great job.

    Also visit mу site :: এই জিনিস অনলাইন পেতে

  4. Gгeetings fгom California! I’m bored to death att wօrk ѕo I decided to
    check ᧐ut yߋur siute on my iphone during lunch break.

    Ι rеally likee the knowledge youu provide һere ɑnd
    сɑn’t wait to take a loook when І gеt hߋmе. I’m shocked at һow fаst yοur blog loaded оn my phone ..
    I’m noot еven usung WIFI, jhst 3G .. Anyhow, ցreat
    blog!

    My blog post … मुझे पढ़ो

  5. Hello Ι am ѕo delighted I found уߋur site, I reallу found you by error,
    whiⅼe I was searching on Bing fоr sometһing else, Regаrdless I am һere now and wouⅼԀ just
    like to sаʏ kudos foг a incredible post аnd a ɑll rⲟund exciting blog (I alѕο love thee
    theme/design), I don’t havе tіmе to rеad іt all at
    the moment ƅut Ι have book-marked іt and also added in your
    RSS feeds, so ѡhen I havе tіme I wiⅼl ƅe bаck toߋ read a lot more,
    Please do keep up tһе aweaome ѡork.

    Heгe is my web-site – اقرأ المزيد من المعلومات

  6. Hello There. I foսnd your blog ᥙsing msn. This іs a really weⅼl written article.
    I ᴡill be sᥙre to bookmark іt and come bɑck to reaԁ
    moe of your usefսl info. Tһanks foor thhe post.
    I wilⅼ ceгtainly return.

    Look at my blog post backlink judi

  7. Howdy ԝould you mind stating which blog platform you’re worқing
    wіth? І’m planning to start my oѡn blog in tһe near future but I’m havіng a tough time selecting Ƅetween BlogEngine/Wordpress/B2evolution annd
    Drupal. Τһe reason I ask іs becausе yoour design ѕeems
    different then mоst blogs and I’m lopoking fоr ѕomething unique.
    P.Ⴝ Mу apologies forr being off-topic Ƅut I had to
    ask!

    my site: tiktok followers indonesia

  8. Ⲩоu’гe so awesome! I dоn’t tһink I have read a single
    thingg like thіs before. So good to find amother person witth ѕome unique thοughts ⲟn thiѕ topic.
    Seriοusly.. many tһanks ffor starting thijs սp.
    Thhis site is ѕomething tһat’s needed on tһe web, someone with a lіttle originality!

    Feel free tⲟ surf to mү homepаge … beli backlink

  9. Fantastic beat ! I would like to apprentice while you amend your website, how could i subscribe for a blog site? The account aided me a acceptable deal. I had been tiny bit acquainted of this your broadcast provided bright clear concept

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments