Homeउत्तराखंडवनभूमि में किए राजस्व विभाग ने खनन पट्टे

वनभूमि में किए राजस्व विभाग ने खनन पट्टे

पत्रकार उमेश नोटियाल ने सुखरों नदी में रिवर्ट मीनिंग नीति के अंतर्गत प्रशासन द्वारा चार गांवों की भूमि के स्थान पर वन भूमि तथा खूनी बाढ़ व निंबूचौर की भूमि में खनन कराने वाले अधिकारियों के विरुद्ध कार्यवाही की मांग

प्रशासन द्वारा सुखरो नदी में रिवर ट्रेनिंग नीति के अंतर्गत दिए गए पट्टों की आड़ में वन भूमि तथा ग्राम खूनी बाढ़ व निंबूचौर की भूमि में 45 मीटर गहरा खनन किया गया है प्रशासन द्वारा कीमत और गांव के खसरा नंबर 103 तथा बलभद्रपुर गांव के खसरा नंबर 1 में खनन के पट्टे 30 जून 2021 तक के लिए दिए गए थे परंतु प्रशासन की चुप्पी के चलते खनन कार्यो ने पांच पोकलेन मशीनों से खूनी बड़गांव के सन 1961 के बंदोबस्ती नक्शे में वन भूमि तथा खूनी बड़गांव कि वह निंबूचौर गांव की भूमि पर रात दिन खराब खनन कर दिया जिस जिस की शिकायत प्रशासन लिखित रूप में लगातार की जा रही परंतु खनन कार्य पूरी बरसात में 9 अगस्त तक रात दिन खनन कर रहे रिवर ट्रेनिंग नीति के अंतर्गत उन स्थानों पर खनन के पट्टे दिए जाने का नियम है जहां पर नदी का तल बगल की भूमि से ऊंचा हो जाता है नदी के तल पहले से ही बगल की भूमि से काफी गहरा है था खनन नीति के अंतर्गत गठित अधिकारियों ने पीना मौके का निरीक्षण किए गलत संयुक्त निरीक्षण आख्या बनाकर खनन के पट्टे स्वीकृत कृति की सिफारिश कर दी है अतः आपसे अनुरोध है कि एक ईमेल चोर खसरा नंबर 103 के स्थान पर वन भूमि तथा खूनी बड़वा निंबूचौर की भूमि में खनन कराने वाले तथा गलत संयुक्त निरीक्षण बनाने वाले अधिकारियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जाए दो कोटद्वार मोटर मार्ग पर बने पुल के डाउनस्ट्रीम में स्थित ग्राम निंबूचौर खूनी बाढ़ की भूमि को सुकरो नदी की बाढ़ से बचाने के लिए वन विभाग से सीमेंटेड सुरक्षा दीवार तथा तार तटबंध बनाए जाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments